उमा की सीडी

| No Comments | Google
uma.jpgमतदान का दौर जारी है। सभी दल एक दुसरे से आगे रहने का दावा कर रहे हैं। पर रुझानों की अगर बात की जाए तो पलड़ा मोदी का भारी दिखता है। जीत और हार को अगर कुछ देर के लिए भुला जाए और राजनीतिक वार-पलटवार पर गौर किया जाए तो चुनाव सिर्फ मोदीमय ही दिख रहा है। देश का हर राजनीतिक दल और नेता अपने निशाने पर सिर्फ मोदी को रख रहे हैं। अगर दुसरे शब्दों में कहा जाये तो ये चुनाव मोदी बनाम सभी हो गया है। बिहार में नीतीश, उत्तर प्रदेश में मुलायम, बंगाल में ममता यहाँ तक कि तमिलनाडु में जयललिता सभी के निशाने पर मोदी है। इन हमलों ने मोदी के कद को इतना बढ़ा दिया है कि इन चुनावों में उनके कद का दूसरा नेता नज़र नहीं आ रहा है।
कांग्रेस पार्टी मोदी के कद को कम करने की लगातार कोशिश कर रही है। पर ऐसा लगता है जैसे उनकी सारी कोशिशें मोदी को और मजबूत बना रही हैं। पहले कांग्रेस के नेताओं के द्वारा मोदी के बारे में अपशब्दों का प्रयोग, फिर उनके शादी के मुद्दे को उछालना, और अब पुराण उमा भारती का वीडियो सामने लाना। कांग्रेस पार्टी संभवतः अपनी आखिरी कोशिश कर रही है। उमा भारती को सामने रखकर जहाँ वो मोदी के सामने एक मजबूत मोहरा रखने की कोशिश कर रही है वही दुसरे हाथ वो मतदाता के बीच ये धरना भी बनाना चाहती है कि भाजपा में कुछ पुराने अंतर्कलह आज भी जीवित हैं।

उमा ने धमकी भरे शब्द में अपनी पिछली कही बातों से किनारा किया है। उन्होंने सोनिया गांधी और दुसरे नेताओं को भी कुछ कच्चे चिट्टे खोलने जैसी धमकी दी है। फायर ब्रांड नेता के नाम से मशहूर उमा ऐसे शब्दों को बोलने में माहिर हैं। भाजपा छोड़ते समय उमा ने कैमरे के सामने आडवाणी जी को चुनौती दे डाली थी।

मतदान वाले दिन इस तरह के खुलासे के बावजूद रिकॉर्ड तोड़ मतदान हुआ है। इस दौर का मतदान ये निर्णय कर देगा कि आने वाले दिनों में मोदी प्रधानमंत्री बनेगे या नहीं। अभी कुछ और चरण का मतदान शेष है और इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि ऐसे और कई प्रकरण सामने आ सकते है जो दोनों पार्टियों को शर्मसार करें।

Leave a comment